10 अच्छी आदतें अपनाइए और रहिये हमेशा स्वस्थ

health wellness


घर में आने के बाद या किसी बाहरी की वस्तु को हाथ लगाने व खाना बनाने से पहले, खाने से पहले अथवा खाने के बाद और बाथरूम का उपयोग करने के बाद हाथों को अच्छी तरह साबुन से धोएं। यदि आपके घर में कोई छोटा बच्चा है तो यह और भी जरूरी होता है। कि उसे हाथ लगाने से पहले अपने हाथ अच्छे से जरूर धोएं। 

* घर में सफाई पर विशेष ध्यान दे, विशेषकर रसोई और शौचालयों पर। पानी को एक जगह पर इकट्ठा न होने दें। सिंक, वॉश बेसिन जैसी जगहों पर नियमित रूप से सफाई करते रहे तथा फिनाइल, फ्लोर क्लीनर आदि का उपयोग करे। खाने की किसी भी वस्तु को कभी खुला न छोड़ें। कच्चे और पके हुए खाने को अलग-अलग जरुर रखें। खाना पकाने तथा खाने के लिए उपयोग में आने वाले बर्तनों, फ्रिज, ओवन आदि को भी साफ रखें। कभी भी गीले बर्तनों को रैक में ना  रखें, न ही बिना सूखे डिब्बों आदि के ढक्कन लगाकर रखें।

 
*  अधिकतरताजी सब्जियों-फलों का ही प्रयोग करें। उपयोग करने वाले मसाले, अनाजों तथा अन्य सामग्री के भंडारण को भी सही तरीके से रखे तथा एक्सपायरी डेट वाली वस्तुओं पर तारीख देखने का ध्यान रखें।

* बहुत ज्यादा तेल, मसालों से बने, भोजन का उपयोग न करें। खाने को सही तापमान पर पकाएं और ज्यादा पकाकर सब्जियों आदि के पौष्टिक तत्व नष्ट न करें। साथ ही ओवन का प्रयोग करते समय तापमान का खास ध्यान रखें। भोज्य पदार्थों को हमेशा ढंककर रखें और ताजा भोजन खाएं।


* खाने में सलाद, दही, दूध, दलिया, हरी सब्जियों, साबुत दाल-अनाज आदि का प्रयोग अवश्य करें। कोशिश करें कि आपकी प्लेट मेंवैरायटी ऑफ फूडशामिल हो। खाना पकाने तथा पीने के लिए साफ पानी का उपयोग करें। सब्जियों तथा फलों को अच्छी तरह धोकर प्रयोग में लाएं।

Other Related Link / इन्हें भी पढ़े:-

केवल 7 दिन में अपना वजन घटाये बिना एक्सरसाइज

होगा खतरा: न पीये प्‍लास्टिक बोतल में बंद मिनरल वाटर

 

* खाना पकाने के लिए अनसैचुरेटेड वेजिटेबल ऑइल (जैसे सोयाबीन, सनफ्लॉवर, मक्का या ऑलिव ऑइल) के प्रयोग को प्राथमिकता दें। खाने में शकर तथा नमक दोनों की मात्रा का प्रयोग कम से कम करें। जंकफूड, सॉफ्ट ड्रिंक तथा आर्टिफिशियल शकर से बने ज्यूस आदि का उपयोग न करें। कोशिश करें कि रात का खाना आठ बजे तक हो और यह भोजन हल्का-फुल्का हो।
* अपने विश्राम करने या सोने के कमरे को साफ-सुथरा, हवादार और खुला-खुला रखें। चादरें, तकियों के गिलाफ तथा पर्दों को बदलती रहें तथा मैट्रेस या गद्दों को भी समय-समय पर धूप दिखाकर झटकारें।

* मेडिटेशन, योगा या ध्यान का प्रयोग एकाग्रता बढ़ाने तथा तनाव से दूर रहने के लिए करें।

* कोई भी एक व्यायाम रोज जरूर करें। इसके लिए रोजाना कम से कम आधा घंटा दें और व्यायाम के तरीके बदलते रहें, जैसे कभी एयरोबिक्स करें तो कभी सिर्फ तेज चलें। अगर किसी भी चीज के लिए वक्त नहीं निकाल पा रहे तो दफ्तर या घर की सीढ़ियां चढ़ने और तेज चलने का लक्ष्य रखें। कोशिश करें कि दफ्तर में भी आपको बहुत देर तक एक ही पोजीशन में न बैठा रहना पड़े।
* 45 की उम्र के बाद अपना रूटीन चेकअप करवाते रहें और यदि डॉक्टर आपको कोई औषधि देता है तो उसे नियमित लें। प्रकृति के करीब रहने का समय जरूर निकालें। बच्चों के साथ खेलें, अपने पालतू जानवर के साथ दौड़ें और परिवार के साथ हल्के-फुल्के मनोरंजन का भी समय निकालें।

 

Note: कृपया लईक, कमेन्ट, और शेयर जरूर करे कियोंकि आपका फीड बेक ही हमारा परोत्साहन बढ़ता हे जिसे हम नईनई जानकारियां एकत्रित कर आप तक पहुंचाते है

You can leave a response, or trackback from your own site.

Leave a Reply

Powered by WordPress and MagTheme
%d bloggers like this: