आइये जानिए साइटिका दर्द का घरेलू उपाय

sciatica pain
एलोपैथी में साइटिका के दर्द के लिए कई तरह के उपचार मौजूद हैं जो दर्द से तुरंत आराम दिलाने में तो सहायक होते हैं लेकिन इन दवाओं के साइड इफेक्ट्स बाद में नजर आते दिखाई देते हैं।

साइटिक का दर्द नर्व नितंबों के नीचे से शुरू होकर पैरों के पिछले हिस्से से होते हुए एड़ियों पर खत्म होता है। नर्व यानी कि नाड़ी में जब सूजन या फिर दर्द होता है तो इसे ही साइटिका का दर्द कहा जाता है। साइटिक का दर्द अक्सर तेज दर्द के साथ शुरू होता है। वैसे तो साइटिका के दर्द के लिए एलोपैथी में बहुत  तरह के उपचार मौजूद हैं जो दर्द से तुरंत आराम दिलाने में तो कारगर हैं लेकिन इन दवाओं के साइड इफेक्ट्स बाद में नजर आते हैं। ऐसे में इस बीमारी का प्राकृतिक उपचार ज्यादा बेहतर होता है।

सेंधा नमक सेंधा नमक में मैग्नीशियम और सल्फेट भरपूर मात्रा में होता है और यह रोमछिद्रों के द्वारा आसानी से अवशोषित भी किया जा सकता है। साइटिका के दर्द से निजात पाने के लिए गर्म पानी के एक बाथ टब में दो कप सेंधा नमक मिलाकर बैठ जाएं। लगभग 20 मिनट तक अपने पैर और पीठ के निचले हिस्सों को पानी में डुबोकर रखें। एक हफ्ते में कम से कम तीन बार इस प्रक्रिया को  दोहराएं।
अदरक अदरक का इस्तेमाल अधिकतर खाने को स्वादिष्ट बनाने के लिए  किया जाता है। इसके साथ ही यह आयुर्वेदिक औषधि साइटिका के उपचार में भी बेहद मददगार है। इसमें पोटैशियम का भरपूर भंडार होता है और पोटैशियम की कमी की वजह से ही साइटिका का दर्द और अधिक बढ़ जाता है। ऐसे में आप अदरक की चाय या फिर अदरक का जूस बनाकर पी सकते हैं। इसके अलावा अदरक के छोटे टुकड़े करके  चबाने से भी साइटिका के दर्द से निजात पाया जा सकता है।
हल्दी हल्दी बहुत गुणकारी होती है  हल्दी में एंटी-इन्फ्लेमेट्री गुण पाया जाता है। इस कारण से ही यह साइटिका के उपचार की बेहतरीन औषधि है। इसके लिए आप हल्दी को दूध में मिलाकर पी सकते हैं। आप इसमें थोड़ी मात्रा में दालचीनी भी डाल सकते हैं। ड्रिंक में मिठास लाने के लिए एक चम्मच शहद भी डाला जा सकता है। इस ड्रिंक को दिन में दो बार लें। जो लोग डायबिटीज की दवाएं लेते हैं वे लोग इस ड्रिंक्स का सेवन न करें।
मेथी के बीज साइटिका के दर्द से निजात दिलाने में मेथी के बीज बेहद फायदेमंद होते हैं। यह एंटी-इन्फ्लेमेट्री गुणों से भरपूर होते हैं। साइटिका से निपटने के लिए मेथी के बीज का लेप बना लें। अब इसे दर्द वाली जगह पर लगाएं। इसके अलावा मेथी के बीजों को पीसकर उचित मात्रा में उबलते दूध में मिलाकर गाढ़ा पेस्ट बना लें। इसे भी दर्द वाली जगह पर लगाएं और कुछ घंटों के लिए छोड़ दें। बाद में पानी से धो लें। दर्द कम हो जाने तक हर रोज इस लेप को दर्द पर लगाएं।

Note: कृपया लईक, कमेन्ट, और शेयर जरूर करे कियोंकि आपका फीड बेक ही हमारा परोत्साहन बढ़ता हे जिसे हम नईनई जानकारियां एकत्रित कर आप तक पहुंचाते है

You can leave a response, or trackback from your own site.

Leave a Reply

Powered by WordPress and MagTheme
%d bloggers like this: